देहरादून। उत्तर प्रदेश के सहारनपुर और मुजफ्फरनगर से घूमने आए पांच दोस्तों की सड़क हादसे में दर्दनाक मौत हो गई। वह मसूरी घूमने के बाद चकराता जा रहे थे। उनकी कार तीन सौ मीटर गहरी खाई में गिर गई। घटना का रविवार सुबह पता चला। हरियाणा नंबर की कार में सवार पांचों दोस्त निजी बैंकों में कायर्रत थे। डीएम सी रविशंकर ने हादसे के कारणों की जांच के निर्देश दिए हैं। 

प्राप्त जानकारी के अनुसार हादसा देहरादून के सुदूरवर्ती क्षेत्र कालसी से पांच किलोमीटर दूर साहिया-चकराता मार्ग पर चामडख़ील के पास हुआ। रविवार सुबह चारापत्ती लेने जा रहे स्थानीय लोगों को सड़क किनारे खाई की तरफ गाड़ी की रगड़ नजर आने पर दुर्घटना का अंदेशा हुआ। खाई में गाड़ी नजर आने पर उन्होंने पुलिस को घटना की सूचना दी। सूचना मिलने पर मौके पर पहुंची पुलिस ने एसडीआरएफ और फायर सर्विस की टीम की मदद से शवों को बाहर निकाला। एसडीआरएफ और पुलिस की टीम ने घटनास्थल पहुंचकर ग्रामीणों की मदद से शव खाई से बाहर निकाले। मृतकों की पहचान विरेंद्र वालिया (35) पुत्र रामकृष्ण निवासी अमरदीप कालोनी सहारनपुर उप्र, दीपक तोमर (34) पुत्र कालूराम निवासी नानकपुरम थाना जनकपुरी सहारनपुर उप्र, गौरव त्यागी (34) पुत्र जगपाल त्यागी निवासी गोङ्क्षवद नगर थाना जनकपुरी सहारनपुर उप्र, शक्ति उर्फ बिट्टू (31) पुत्र रामपाल निवासी दिलेडा सोंठा थाना मंसूरपुर मुजफ्फरनगर उप्र व सचिन कुमार (30) पुत्र राकेशपाल निवासी बसेडा मुजफ्फरनगर उप्र के रूप में हुई है। सभी मृतकों का सीएचसी विकासनगर में पोस्टमार्टम किया गया। जिसके बाद शव परिजनों को सौंप दिए गए। कालसी के प्रभारी तहसीलदार केडी जोशी, सीओ विकासनगर बीएस धोनी व थानाध्यक्ष कालसी विपिन बहुगुणा रेस्क्यू पूरा होने तक वहीं मौजूद रहे। 

पुलिस के मुताबिक पांचों मृतक एचडीएफसी बैंक के कर्मचारी थे। इनमें से तीन देहरादून और दो की तैनाती सहारनपुर में थी। पूर्व में पांचों ही सहारनपुर स्थित एक ब्रांच में तैनात थे। पांचों में गहरी दोस्ती थी। शनिवार और रविवार को वीकेंड की छुट्टी होने के कारण पांचों शुक्रवार देर शाम को ही कार से चकराता घूमने के लिए निकले थे। रात किसी वक्त कार अनियंत्रत होकर खाई में जा समाई। उसमें सवार पांचों युवकों की मौके पर ही मौत हो गई। 

परिजनों ने पुलिस को बताया कि विरेंद्र एचडीएफएसी बैंक देहरादून, दीपक तोमर इसी बैंक में सहारनपुर में और गौरव सहारनपुर में शिवालिक बैंक में कार्यरत था। परिजनों के मुताबिक पांचों दोस्त दो दिन पहले मसूरी घूमने की बात कहकर निकले थे। शुक्रवार शाम तक उनकी परिजनों से फोन पर बात होती रही, लेकिन शनिवार सुबह से पांचों के मोबाइल स्विच ऑफ मिल रहे थे। पुलिस के अनुसार घटनास्थल की स्थिति को देखकर ऐसा लगता है कि हादसा शुक्रवार देर रात को हुआ। सुनसान इलाका होने की वजह से किसी को पता नहीं चल पाया। 

Share To:

Post A Comment:

0 comments so far,add yours