मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत की अध्यक्षता में हुई कैबिनेट बैठक 
पौड़ी: गढ़वाल मंडल के मुख्यालय पौड़ी में कमिश्नरी बनने के 50 वर्ष होने पर शनिवार को स्वर्ण जयंती समारोह के तहत मंत्रिमंडल और मंत्री परिषद की बैठक आहूत की गई। यह पहली बार है जब मंत्री परिषद और मंत्रिमंडल की बैठक एक ही दिन रखी गई है। मंत्रिमंडल की बैठक में जहाँ 13 बिंदुओं पर चर्चा की गई। जिसमें से 11 प्रस्तावों पर मुहर लगी, वहीं मंत्रिपरिषद की बैठक में तीन मुद्दों पर चर्चा हुई। जिसमें ग्रामीण विकास एवं पलायन, पेयजल एवं स्वच्छता और कौशल विकास शामिल रहे।

शनिवार को पौड़ी के कमिश्नरी बनने के 50 वर्ष होने पर स्वर्ण जयंती समारोह के तहत आहूत की गई बैठक में रोजगार और स्किल डेवलपमेन्ट, मंडी समिति में रिवॉल्विंग फंड को स्वीकृति, पर्यटन विकास परिषद के साहसिक पर्यटन अधिकारी के वेतनमान के लिए मुख्य सचिव की अध्यक्षता में कमेटी बनाने, चौखुटिया को नगर पंचायत का दर्जा देने, देहरादून के पुरकुल तक मसूरी रोपवे का निर्माण पीपीपी मोड में देने, पौड़ी में ल्वाली झील के लिये 692 लाख 77 हजार की स्वीकृति, किसानों से न्यूनतम समर्थन मूल्य पर उत्पाद खरीदने, उत्तराखंड दिव्यांगजन अधिकार नियमावली-2019, परिवहन विभाग की सड़क सुरक्षा के लिए गठित लीड एजेंसी के पुनर्गठन, पौड़ी के देवार में एनसीसी एकेडमी के लिए 3.66 हेक्टेयर जमीन फ्री में दिए जाने और देहरादून सचिवालय के विस्तारीकरण के लिए सचिवालय से लगी 4.031 हेक्टेयर भूमि का अधिग्रहण न करने आदि प्रस्तावों पर मुहर लगी।

वहीं मंत्रिपरिषद की बैठक सुबह 11 बजे से मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत की अध्यक्षता में मंत्रिपरिषद की बैठक शुरू हुई। जिसमें ग्रामीण विकास एवं पलायन,पेयजल एवं स्वच्छता और कौशल विकास तीन मुद्दों पर चर्चा हुई। शिक्षा मंत्री अरविंद पांडेय को छोड़कर उत्तराखंड सरकार के शहरी विकास मंत्री मदन कौशिक, पर्यटन मंत्री सतपाल महाराज, परिवहन मंत्री यशपाल आर्य, वन मंत्री डॉ हरक सिंह रावत समेत कृषि मंत्री सुबोध उनियाल के साथ ही उत्तराखंड सचिवालय से सचिव भी मौजूद रहे। बैठक से सम्बन्धित जानकारी मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत रविवार को सुबह 10 बजे प्रेस कांफ्रेस कर देंगे। इसके बाद मंत्रिमंडल की बैठक हुई।

वहीं बैठक से पहले मुख्यमंत्री ने रांसी में पौधरोपण किया। बताया गया कि 'बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ' योजना के तहत इन पौधों का नाम बालिकाओं के नाम पर रखा जाएगा। जबकि पौधों की देखभाल बालिकाओं की माताओं द्वारा की जाएगी।

बता दें राजधानी से बाहर त्रिवेंद्र सरकार की यह दूसरी कैबिनेट बैठक है। पहली बैठक त्रिवेंद्र सरकार ने टिहरी झील में की थी। उनसे पहले पूर्व मुख्यमंत्री डॉ. रमेश पोखरियाल निशंक हरिद्वार में, विजय बहुगुणा गैरसैंण में और हरीश रावत हरिद्वार, अल्मोड़ा और केदारनाथ में कैबिनेट की बैठकें कर चुके हैं।

इससे पूर्व शुक्रवार को गढ़वाल कमिश्नरी के स्वर्ण जयंती समारोह का रंगारंग कार्यक्रमों के साथ आगाज हो गया। सुनैरू गढ़वाल की थीम पर कंडोलिया मैदान में कमिश्नर गढ़वाल बीवीआरसी पुरुषोत्तम, आईजी गढ़वाल अजय रौतेला, डीएम धीराज सिंह गब्र्याल, एसएसपी दलीप सिंह कुंवर, नगरपालिकाध्यक्ष यशपाल बेनाम की मौजूदगी में विधायक पौड़ी मुकेश कोली ने समारोह की शुरूआत की। इस दौरान विधायक पौड़ी मुकेश कोली ने इस समारोह का ऐतिहासिक बताया। उन्होंने कहा कि सरकार पर्यटन को बढ़ावा देने, पलायन पर अंकुश लगाने के लिए काम कर रही है। उन्होंने कहा कि शनिवार को पौड़ी में होने वाली कैबिनेट की बैठक पौड़ी के विकास के लिए आयोजित की जा रही है। विश्वास जताया कि कैबिनेट की बैठक में पौड़ी के विकास कार्यो को हरी झंडी मिलेगी।
Share To:

Post A Comment:

0 comments so far,add yours