वाशिंगटन: मुहाजिर, बलूच, पश्तून और अन्य धार्मिक अल्पसंख्यकों के लोगों पर हो रहे अन्याय के खिलाफ आवाज उठने लगी है. इन समुदाय के लोगों ने आतंकवाद को शरण देने वाले देश पाकिस्तान से मुक्त होने का नारा बुलंद करना शुरू कर दिया है. इस मांग के लिए कई समुदायों ने अमेरिका में व्हाइट हाउस के सामने प्रदर्शन कर वैश्विक मीडिया के सामने अपना पक्ष रखने की कवायद की है. 

रविवार को संयुक्त राज्य अमेरिका की राजधानी वाशिंगटन डीसी में मुहाजिर, बलूच, गिलगित-बाल्टिस्तान, पश्तून और अन्य धार्मिक अल्पसंख्यकों के सदस्यों ने पाकिस्तान के खिलाफ व्हाइट हाउस के बाहर विरोध प्रदर्शन किया. प्रदर्शन कर रहे इन लोगों ने पाकिस्तान में पाकिस्तान द्वारा शोषण और उत्पीड़न करने का आरोप लगाया. उन्होंने कहा कि हम पाकिस्तान में सभी अल्पसंख्यकों और उत्पीड़ित वर्गों की मदद के लिए मानवाधिकार संगठनों, व्हाइट हाउस और संयुक्त राष्ट्र के समक्ष अपनी आवाज बुलंद करने के लिए यहां आए हैं. हम आत्मनिर्णय के अधिकार के लिए पूछ रहे हैं. हम पाकिस्तान में इन सभी अन्याय से आजादी की मांग करते हैं.

अमेरिका में मुत्ताहिदा कौमी मूवमेंट के प्रमुख ऑर्गेनाइजर रेहान इबादत ने बताया कि व्हाइट हाउस के सामने प्रस्तावित रैली और प्रदर्शन सभी मुहाजिर, बलूच, गिलगिट, पश्तून और पाकिस्तान की तानाशाही से ग्रस्त अन्य सभी समुदायों का मिला जुला प्रयास है. इस रैली और प्रदर्शन से पाकिस्तान और पाकिस्तानी सेना और खुफिया एजेंसियों की दमनकारी नीतियों के खिलाफ है.
Share To:

Post A Comment:

0 comments so far,add yours