कुलदीप राणा, संवाददाता, रुद्रप्रयाग ।

ट्रेकर की डेड बॉडी लाते एसडीआरएफ और स्थानीय लोग
रुद्रप्रयाग: पनपतिया-मद्महेश्वर-गौंडार-ट्रैक के दौरान पर्यटक अरूण कुमार दास की मौत के बाद शव को एसडीआरएफ एवं स्थानीय लोगों की मदद से ऊखीमठ लाया गया है। मौसम खराब होने के कारण हेलीकाॅप्टर मदमहेश्वर धाम में लैंड नहीं कर सका। ऐसे में एसडीआरफ एवं स्थानीय लोगों की मदद से ट्रेकर के शव को पैदल ही मद्महेश्वर धाम से लाया गया। ट्रेकर के शव का जिला चिकित्साल में पोस्टमार्टम करने के बाद शव को परिजनों के सुपूर्द किया गया। 
दरअसल, पश्चिम बंगाल के नौ ट्रैकर, 12 पोर्टर और दो गाइड पांच जून को लामबगड़ के खीरों नदी क्षेत्र से पनपतिया-मद्महेश्वर-गौंडार-रांसी के लिए रवाना हुए थे। इस दल में शामिल एक ट्रैकर की ठंड के कारण रास्ते में ही मौत हो गई। घटना की जानकारी प्रशासन को मिलने के बाद रेस्क्यू आॅपरेशन शुरू हुआ। 

इस बीच सभी आठ ट्रैकरों को ऊखीमठ पहुंचाया गया, जबकि रेस्क्यू टीम और पोर्टर मृत इंजीनियर के शव के साथ मद्महेश्वर पहुंचे। शव को हेलीकाॅप्टर की मदद से ऊखीमठ लाया जाना था, मगर बिगड़ते मौसम के चलते हेलीकाॅप्टर मद्महेश्वर धाम नहीं पहुंच पाया। ऐसे में एसडीआरएफ और स्थानीय लोगों की टीम पैदल ही ट्रेकर के शव को ऊखीमठ ले आई।

यह भी पढ़ें-सचिवालय में फर्जी नियुक्ति के बहाने ठगी करने का एक आरोपी गिरफ्तार, दूसरे आरोपी की तलाश जारी

उत्तराखंड 24 न्यूज़ से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे! लेटेस्ट वीडियो के लिए हमारे यू-ट्यूब चैनल को सब्सक्राईब करें
Share To:

Post A Comment:

0 comments so far,add yours