देहरादून। उत्तराखंड में बीते दिन बारिश लोगों के लिए आफत  बनकर बरसी। जिसके कारण लोगों को काफी परेशानियों का सामना करना पड़ा। बारिश के कारण बरसाती नाले और नदियां उफान पर हैं। मौसम का मिजाज अचानक बदलने से पर्वतीय क्षेत्रों में तापमान में गिरावट आई है। वहीं मौसम विभाग के अनुसार अगले चौबीस घंटे में कुछ क्षेत्रों में ओलावृष्टि और तेज हवाएं चलने की आशंका है। 

वहीँ नैनीताल और मसूरी में बारिश के कारण मौसम खुशनुमा बना हुआ है, और यहाँ के खुशनुमा मौसम का सैलानी जमकर लुफ्त उठा रहे हैं। मानसून और मौसम के पूर्वानुमान की चेतावनी के बाद नैनीताल जिला प्रशासन ने आपदा से निपटने की पूरी तैयारी करने का दावा किया है। नैनीताल और मसूरी में प्रशासन ने मौसम से निपटने के लिए पूरे प्रयास आर रखे हैं, ऐसे में सैलानी बेफिक्र होकर यहाँ के मौसम का लुफ्त ले रहे हैं। मौसम विज्ञान केंद्र के निदेशक बिक्रम सिंह ने बताया कि अगले चौबीस घंटे कुछ क्षेत्रों में ओलावृष्टि और तेज हवाएं चलने के आसार हैं। उन्होंने बताया कि प्रदेश के कुछ क्षेत्रों में छह जून तक हल्की और मध्यम बर्षा हो सकती है।

जिला प्रशासन ने नैनीताल और उसके दूरस्थ क्षेत्रों में 20 स्थानों पर लैंडस्लाइड जोन चिन्हित किए हैं। इसके अलावा सरकारी मशीनरी को भी बरसात के दौरान सड़कें बाधित होने के तुरन्त एक्शन लेने के निर्देश दिए हैं। जिला अधिकारी विनोद कुमार सुमन के अनुसार जिले में आपदा कंट्रोल रूम 24 घंटे संचालित किया जा रहा है। हालांकि अब तक जिले में सब कुछ सामान्य घट रहा है। वहीँ देहरादून जिला प्रशासन भी पूरी तरह मुस्तैद है।

जिलाधिकारी का कहना है की मानसून को देखते हुए चिन्हित किये गए लैंडस्लाइड जोन के पास जेसीबी मशीन और आपदा की टीम तैनात रहेगी। विनोद कुमार ने कहा कि लैंडस्लाइड होने पर तुरंत सड़क से मलवा हटाकर यातायात को सुचारू कर दिया जाएगा। साथ ही आपदा को लेकर वाट्सएप्प ग्रुप बनाया गया है, जिसमे सभी अधिकारियों को जोड़ा गया है। 

उत्तराखंड 24 न्यूज़ से जुड़े व अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे! लेटेस्ट वीडियो के लिए हमारे यू-ट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करें।
Share To:

Post A Comment:

0 comments so far,add yours