मसूरी। अवैध खनन माफियाओं को रोकना एक वन बीट कर्मी को तब भारी पड़ गया, जब वह सूचना मिलने पर खनन रोकने पहुंचा, खनन माफियाओं ने वन कर्मी की वर्दी फाड़ने के साथ ही उसके साथ जमकर मारपीट की और उसे अधमरा छोड़कर वहां से भाग निकले। पीड़ित ने पांच लोगों के खिलाफ पुलिस में तहरीर दी है, पुलिस ने आईपीसी की विभिन्न धाराओं में मामला दर्ज कर जांच शुरू कर दी है 

पीड़ित मोहित सैनी
प्राप्त जानकारी के मुताबिक घटना रिखोली के निकट किमाड़ी मार्ग की है। गुरुवार को सूचना मिलने पर पीड़ित वन बीट कर्मी मोहित कुमार सैनी ने खनन माफियाओं को अवैध खनन सामग्री ले जाने से रोकने का प्रयास किया, तो उन्होंने उस पर जानलेवा हमला कर दिया, और उसे जान से मारने की कोशिश की गई। वन बीट कर्मी मोहित सैनी के मुताबिक, आरोपियों ने उस पर हमला कर जान से मारने की कोशिश की है, साथ ही उसकी वर्दी फाड़ दी और उसके मोबाइल फोन और सरकारी डायरी को नष्ट करने की कोशिश भी की। जिसके बाद वे उसे मरा हुआ समझकर वहां से भाग निकले। देर रात किसी तरह पुलिस स्टेशन पहुंचकर मोहित ने पुलिस को सारी आप बीती सुनाई और घटना की तहरीर दी। 

मोहित के अनुसार, पुलिस थाने में पांच लोगों महावीर पुंडीर, मदन सिंह, गजे सिंह, बाबू सिंह, मनीष के खिलाफ नामजद रिपोर्ट दर्ज करवाई है। पुलिस ने उसका मेडिकल करवा लिया है। 

वहीं डीएफओ कहकशां नसीम ने कहा कि रात्रि 8 बजे के लगभग वनकर्मी पर आठ लोगों ने हमला कर घायल कर दिया है और पुलिस ने FIR दर्जकर ली है। एसएसपी देहरादून द्वारा विभाग को आरोपियों के खिलाफ सख्त कार्यवाही का भरोसा दिया गया है। उन्होंने कहा वनकर्मियों की सुरक्षा के मद्देनजर वन विभाग पीआरडी जवानों को तैनात करने का विचार कर रहा है, ताकि ऐसी घटनाओं की पुनरावृति न हो सके। उन्होंने कहा कि अब पुलिस के ऊपर है कि वह घटना पर क्या कार्यवाही करती है।

उधर, कोतवाल भावना कैंथोला का कहना है कि मामले की जांच उप-निरीक्षक केशवानंद पुरोहित को सौंपी गई है, और अभी प्रकरण की जांच की जा रही है, जल्द ही आरोपी पुलिस की गिरफ्त में होंगे।

उत्तराखंड 24 न्यूज़ से जुड़े व अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे!
लेटेस्ट वीडियो के लिए हमारे यू-ट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करें
Share To:

Post A Comment:

0 comments so far,add yours