मसूरी। उस वक्त एक अजीब स्थिति पैदा हो गई, जब भोटिया मार्किट स्थित होटल दर्पण के सामने पर्यटक सड़क पर अपनी कार पार्क कर मॉल रोड घुमने निकल गये पर्यटको की कार पार्क होने के कारण यातायात बाधित होने से शिकायत मिलने पर नगरपालिका व पुलिस की टीम ने मौके पर पहुंचकर कार को क्रेन से उठा लिया। जिस पर पर्यटको ने एक घंटे तक बवाल मचाये रखा और वे पुलिस और पालिका कर्मचारियों के साथ उलझते रहे।
पुलिस व पालिका कर्मियों से बहस करती पर्यटक
रविवार को भोटिया मार्किट स्थित होटल दर्पण के सामने पर्यटक अपने वाहन को सड़क पर पार्क कर मॉल रोड घूमने निकल गये, जिस कारण यातायात अवरुद्ध होने लगा। इसकी शिकायत मिलने पर पुलिस व नगरपालिका के कर्मचारी अरविंद ने पहले तो अनाउंसमेंट किया व जब कोई कार स्वामी वहां नहीं पहुंचा, तो उन्होंने नो पार्किंग जोन में सड़क पर खड़ी पर्यटकों की कार को क्रेन से उठा लिया। जिसके बाद पर्यटकों ने मौके पर पहुंचकर हंगामा शुरू कर दिया और आरोप लगाया कि पालिका व पुलिस कर्मियों ने कार में उनकी बच्ची के होने के बावजूद उसे कार समेत उठा लिया।
नों पार्किंग जोन में कड़ी कार को ले जाती क्रैन 
वहीं जानकारी के मुताबिक वहां आसपास के लोगों ने बताया कि कार में कोई भी बच्ची मौजूद नही थी, और बच्ची को पर्यटकों द्वारा कार में काफी देर बाद तब बिठाया गया जब कर्मचारियों ने कार को क्रेन से उठा लिया था। जबकि पर्यटक का कहना था कि उनकी बच्ची का स्वास्थ्य ठीक नही और वे उसे अस्पताल पहुंचाने जा रहे थे। पर्यटकों ने लगभग एक घण्टे तक मामले को लेकर बवाल मचाये रखा। पर्यटक अपनी गलती को मानने के बजाय पालिका व पुलिस की टीम पर आरोप लगाते रहे। इस बीच महिला पर्यटक दिल्ली सचिवालय के एक अधिकारी की धौंस भी पुलिस कर्मियों एसएसआई योगेश खुमरियाल, महिपाल रावत, अरविंद गिरी, को धौंस दिखाती रही। पर्यटक ने कार को क्रैन से मुक्त करवाने के लिए सचिवालय में कार्यरत अधिकारी से एसएसआई योगेश खुमरियाल से बात भी करवाई। वहीं बाद में मौके पर पहुंची कोतवाल भावना कैंथोला से भी पर्यटक बहस करते रहे। हालांकि पर्यटकों के साथ छोटी बच्ची को देखते हुए भावना कैंथोला ने नरमी दिखाते हुए कार का चालान कर छोड़ दिया है।

आपको बता दें कि कोतवाल भावना कैंथोला ने पहले ही स्पष्ट कर दिया था कि यदि मॉल रोड या कहीं भी सड़क पर किसी का वाहन पार्क हुआ और यातायात अवरुद्ध हुआ, तो उस पर सख्त कार्यवाही की जाएगी व साथ ही वाहन को क्रेन से उठाकर सीज कर दिया जाएगा। भावना कैंथोला के इन सख्त तेवरों का असर देखने को भी मिला, जब वीकेंड पर शनिवार को लोगों को पहले की तरह यातायात अवरुद्ध होने के कारण जाम के झाम से नही जूझना पड़ा। लगने रहा था कि मसूरी की यातायात व्यवस्था में सुधार के लिए कोतवाल भावना कैंथोला के प्रयास सार्थक हो रहे हैं, लेकिन जब तक पुलिस के कार्यो में हस्तक्षेप होता रहेगा, मसूरी की यातायात व्यवस्था को पटरी पर लाने का कोतवाल भावना कैंथोला प्रयास सफल कैसे हो पायेगा। इस मामले से यह बात स्पष्ट है कि पर्यटक द्वारा झूठे आरोप लगाये गये हैं, यदि पर्यटक के आरोपो पर गौर किया जाय, तो इस बात से साफ हो जाता है कि कोई भी आदमी अपने बीमार बच्चे को कार में छोड़कर घूमने नही जाएगा। लेकिन पुलिस की कार्यवाही से बचने और अपनी गलती को मानने के बजाय उल्टे पुलिस पर ही इस तरह आरोप लगाने से पुलिस के कार्यों में बाधा उत्पन्न करना अनुचित है।

इससे एक बात साफ़ होती है कि हम यानी आम आदमी हमेशा व्यवस्था को ही हर बात के लिए दोषी मानता है, व्यवस्था दोषी होती भी है, लेकिन हर बार नही। हम ऐसे ही अपनी गलतियों को छिपाने के लिए सारा दोष व्यवस्था के सिर गढ़ लेते हैं, जो सही नही है। यदि कोतवाल भावना कैंथोला सख्त नही होती तो शनिवार को भी हमेशा की भांति हर जगह जाम लगा मिलता। साफ़ है कि कहीं न कहीं हम भी गलत होते हैं और जरा सी सख्ती से हमारे भीतर कुछ बदलाव भी देखने को मिला। अर्थात पुलिस से उलझने या अपनी गलती को छिपाने के बजाय हम पुलिस को सहयोग करेंगे तो मसूरी की यातायात व्यवस्था सुधर सकती है। जहाँ तक पर्यटकों का सवाल है तो पर्यटक मसूरी आकर सबसे अधिक पार्किंग की व्यवस्था नही होने पर जूझता है, इसके लिए होटल व्यवसायी काफी हद तक जिम्मेदार हैं, यह किसी से छिपा नही है, क्योंकि होटल पर्यटक को कमरा उपलब्ध तो करवाते हैं लेकिन पर्यटकों के वाहनों के लिए अधिकांश होटलों के पास पार्किंग नही। जिस कारण पर्यटक को परेशानियों से जूझना पड़ता है बहरहाल, किसी पर्यटक को इस तरह परेशान न होना पड़े और अपनी गलती को मानने के बजाय नगर पालिका कर्मचारियों या पुलिस कर्मियों से न उलझना पड़े और यातायात को अव्यवस्थित न करना पड़े, इसके लिए मसूरी होटल व्यवसायियों/होटल एसोसिएशन की बड़ी जिम्मेदारी बनती है कि वे पर्यटक को बताएं कि कहा उन्हें अपना वाहन पार्क करना है और कहाँ नही, ताकि पर्यटकों को परेशानियों का सामना न करना पड़े व मसूरी की साख पर बट्टा न लगे।

उत्तराखंड 24 न्यूज़ से जुड़े व अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे!
लेटेस्ट वीडियो के लिए हमारे यू-ट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करें
Share To:

Post A Comment:

0 comments so far,add yours