मसूरी। विंटर लाइन कार्निवाल की तीसरी सांस्कृतिक संध्या में पर्वतीय बिगुल सामाजिक, सांस्कृतिक संस्था द्वारा आयोजित लोक नृत्य में लोक गायक ओम बधाणी, पदम गुसांई, मूल जागर गायक दिगम्बर बिष्ट, अरूण हिमेश, नवोदित गायिका प्रेरणा भण्डारी के अलावा प्रसिद्ध नृत्य कलाकारों ने शानदार प्रस्तुतियां पेश कर दर्शकों को मंत्रमुग्ध किया। 

कार्यक्रम का शुभारंभ मॉ भगवती की स्तुति से हुआ, इसके उपरांत लोक गायक अमित सागर ने दर्शकों की फरमाईस पर दो बार "चैता की चैत्वाली" गाना गाकर स्थानीय निवासियों और देश-विदेश से आये पर्यटकों को झूमने के लिए मजबूर कर दिया। इसके बाद उन्होंने दर्शकों की फरमाईस पर एक से बढकर एक गाने गाये। 

                     

इस मौके पर संस्था के अध्यक्ष प्रदीप भण्डारी ने बताया कि गायक अमित सागर द्वारा गाये गये "चैता की चैत्वाली" सभी भाषायी लोग सुनने को आतुर हैं। उन्होंने बताया कि इस गाने ने अब तक यूट्यूब पर 44 लाख व्यूवर का रिकार्ड बनाकर उतराखंड के सभी गीतों का रिकार्ड तोडा है। वहीँ देशभर के लाखों लोगों के दिलों में छाने वाला यह पहला गढवाली गीत हैं,जिसे विदेशी लोग भी खूब पंसद कर रहे हैं। 

वहीं प्रेरणा भण्डारी और आरूषि भटट ने मसूरी के पर्यावरण को हो रहे खतरे की तरफ ध्यान आकर्षित करने वाला लघु नाटक "मै मसूरी हूं" की शानदार प्रस्तुती पेश की। ओम वधानी ने सुवा प्यारी सुवा, पदम गुसांई ने चलदु हे दगडिया काफलु का बण, विजय भारती ने जौनसारी गीत घोटा समन्ये गाकर श्रोताओं को मंत्रमुग्ध कर दिया। 
इससे पहले शाम 7 बजे से 7:30 तक मनोरमा रावत और भूमिका रौछेला द्वारा क्लासिकल डांस की प्रस्तुती पेश की गयी। इसके बाद जादू्गर राकेश श्रीवास्तव ने जादू के कई हैरतअंगेज करतब कारनामे दिखाकर दर्शकों की खूब तालियां बटोरी। वहीं 8:30 बजे से लेकर 9 बजे तक भगवती प्रसाद द्वारा मोहम्द रफी के गाने गाकर दर्शकों को मंत्रमुग्ध किया।

इस मौके पर पालिकाध्क्ष मनमोहन सिंह मल्ल,पूर्व पालिकाध्यक्ष ओपी उनियाल, एसडीएम मिनाक्षी पटवाल, आरएन माथुर, संदीप साहनी, दयाराम, मोहन पेटवाल,कुशाल राणा,अनिल गोदियाल सहित अन्य लोग मौजूद रहे।
Share To:

Post A Comment:

0 comments so far,add yours